Home खानदेश समाचार प्रवासी मजदूरों के इंतजार में नवापुर में खड़ी 169 बसे

प्रवासी मजदूरों के इंतजार में नवापुर में खड़ी 169 बसे

789
0
SHARE
प्रवासी मजदूरों के इंतजार में नवापुर में खड़ी 169 बसे

वाहन चालको की नही की गई खाने पीने की व्यवस्था

परिवहन विभाग  प्रबंध में हुआ असफल

धुलिया/नंदुरबार ( जुनेद काकर ): गुजरात राज्य से मध्य प्रदेश यूपी बिहार जाने वाले प्रवासी मजदूरों का सिलसिला थम गया है. प्रबंध के अभाव में बॉर्डर पर सैकड़ों लोगों का जमवाड़ा जमा है जिसके कारण नंदुरबार जिले में कोरोना फैलने की आशंका स्थानीय नागरिकों ने जताई है.
एसटी और परिवहन विभाग की लापरवाही के कारण सैकड़ो एसटी बस प्रवासी मजदूरों के इंतज़ार में खड़ी है. किंतु दूर-दूर तक मजदूरों का अता पता नहीं है. इतनी सारी बसें मंगाने से पहले प्रशासन ने गुजरात सरकार से प्रवासी मजदूरों की संख्या और उनकी उपस्थिति की जानकारी करनी थी.किंतु ऐसा नहीं किया. जिसके चलते नवापुर  चेक पोस्ट पर अराजकता का माहौल है. पुलिस अधीक्षक ने भोजन की व्यवस्था के निर्देश दिए हैं.
लॉक डाउन के कारण गुजरात में फंसे हजारों मजदूर महाराष्ट्र के नवापुर से मध्य प्रदेश छत्तीसगढ़ उत्तर प्रदेश बिहार जाने आरटीओ परिवहन चेक पोस्ट बेडकी पाड़ा से उनके गंतव्य स्थान मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की सीमा पार करीब 16 हजार प्रवासी मजदूरों को एसटी बस से भेजा गया था. गत तीन दिनों से यह सिलसिला थम सा गया है.
सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार धुलिया संभागीय एसटी निगम की अधिकारी मनीषा सपकाल और नवापुर आरटीओ के संबंध में के अभाव में 225 एसटी बसों को नवापुर चेक पोस्ट पर बुलाया गया है.जिसमें प्रवासी मजदूर के अभाव में 169 बसे खड़ी हुई है. जिसके चलते चेक पोस्ट पर बड़े पैमाने पर वाहन चालक और कंडक्टर की भीड़ इकट्ठा हो गई है. इस अराजक स्थिति का निरीक्षण करने नंदुरबार पुलिस अधीक्षक महेंद्र पंडित ने आरटीओ चेक पोस्ट का जायजा लिया और उपस्थित सेवाओं की जानकारी प्राप्त की है.वही पर एसटी बस चालको ने खाने पीने और सोने की व्यवस्था नही करने की शिकायत की है. खुली जमीन पर सोने और बासी रोटी खाने का विवश हैं. इस तरह की प्रतिक्रिया व्यक्त की है