Home प्रदेश जंगली पशुओं को रोनके लिए लगाए करंट की चपेट में आने से...

जंगली पशुओं को रोनके लिए लगाए करंट की चपेट में आने से दो किशोरों की मौत

228
0
SHARE
मुजफ्फरपुर (तेज समाचार डेस्क). पानापुर ओपी क्षेत्र की मणि फुलकाहां पंचायत के बकुलहारा चौर के पोखर के चारों तरफ बिछाए गए बिजली के नंगे तार की चपेट में आने से दो किशोर की मौत हो गई. मृतकों की शिनाख्त भेड़ियाही सलोना निवासी मो. अमजद के पुत्र मो. सैफुल (14) और मो. इशाक के पुत्र मो. साबुदीन (16) के रूप में हुई है.
बताया जाता है कि पोखर में पश्ाुओं को आने से रोकने के लिए पोखर के चारों ओर बिजली के तार से घेराबंदी की गई थी. रात में मो. सैफुल व मो. इशाक उधर से गुजर रहा था. इसी दौरान मो. सैफुल घेराबंदी की गई बिजली तार की चपेट में आ गया. उसे तड़पते देख मो. साबुदीन बचाने गया तो वह भी करंट की चपेट में आ गया. मौके पर पहुंचे ग्रामीणों ने तत्काल बिजली बंद करवाई.
इसके बाद दोनों के शव को बाहर निकाला. पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. मामले में पानापुर ओपी में मृतक मो. सैफुल के पिता मो. अमजद अली के बयान पर मैसाहा निवासी काशीनाथ झा एवं आलोक कुमार झा पर नामजद प्राथमिकी दर्ज कराई गई है. ओपी अध्यक्ष रमेश कुमार मिश्रा ने बताया कि मामले में दो नामजद अभियुक्तों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई गई है. छानबीन की जा रही है.
नीलगाय और जंगली सूअर से फसल को बचाने के लिए भी किसान खेतों की मेड़ पर करंट वाला नंगा तार लगाते हैं. जिले में इस तरह के बिजली के तार से अब तक आधा दर्जन से अधिक हादसे हो चुके हैं. जिसमें 8 से 10 लोगों की जान जा चुकी है. हालांकि विभाग इसके लिए मंजूरी नहीं देता है. प्रशासनिक स्तर पर भी रोक लगाई गई है.
कानून के जानकार अधिवक्ता शरद सिन्हा ने बताया कि खेतों में नंगा तार लगाकर उसमें करंट प्रवाहित करने से यदि हादसे में किसी की मौत होती है तो ऐसी स्थिति में आईपीसी की धारा 304 के तहत एफआईआर दर्ज की जाती है. लापरवाही के कारण गैर इरादतन हत्या को लेकर पुलिस की ओर से ऐसे मामलों में चार्जशीट की जाती है. इसके तहत सख्त सजा का प्रावधान है.