Home दुनिया आपसी कड़वाहट खत्म कर देश को एकजुट करुंगा, जो बाइडेन का पहला...

आपसी कड़वाहट खत्म कर देश को एकजुट करुंगा, जो बाइडेन का पहला भाषणा

225
0
SHARE
U.S. President-elect Joe Biden speaks while delivering an address to the nation during an election event in Wilmington, Delaware, U.S., on Saturday, Nov. 7, 2020. Biden defeated Donald Trump to become the 46th U.S. president, unseating the incumbent with a pledge to unify and mend a nation reeling from a worsening pandemic, faltering economy and deep political divisions. Photographer: Sarah Silbiger/Bloomberg via Getty Images
तेज समाचार डेस्क
आखिरकार 77 वर्षीय जो बाइडेन अमेरिका का प्रेसिडेंशियल इलेक्शन जीत चुके हैं. फिलहाल वे प्रेसिडेंट इलेक्ट है. 20 जनवरी को शपथ लेने के बाद वे 46वें राष्ट्रपति बन जाएंगे. चुनाव में जीतने के बाद उन्होंने लोगों को संबोधित किया. इसमें उन्होंने आपसी कड़वाहट खत्म करने, देश को एकजुट और सबका राष्ट्रपति जैसी बातों पर बल दिया. भाषण देने के बाइडेन मंच तक दौड़ते हुए आए. चुनाव प्रचार के दौरान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने उन पर उम्रदराज होने के आरोप लगाए थे.
रिकॉर्ड वोटों से हुई जीत
बाइडेन 48 साल पहले पहली बार सीनेटर चुने गए थे. देश के नाम संबोधन में उन्होंने कहा- आप लोगों ने स्पष्ट जनादेश दिया है. 7.4 करोड़ लोगों ने रिकॉर्ड वोट दिया. अमेरिका की यह नैतिक जीत है. मार्टिन लूथर किंग ने भी यही कहा था. गौर से सुनिए. आज अमेरिका बोल रहा है. मैं राष्ट्रपति के तौर पर इस देश को बांटने के बजाए एकजुट करूंगा. परिवार और पत्नी का इस संघर्ष में साथ देने के लिए शुक्रिया.
– मैं भी कई बार हारा हूं
ट्रम्प और उनके समर्थकों से बाइडेन ने कहा- मैं जानता हूं कि जिन लोगों ने ट्रम्प को वोट दिया है, वे आज निराश होंगे. मैं भी कई बार हारा हूं, यही लोकतंत्र की खूबसूरती है कि इसमें सबको मौका मिलता है. चलिए, नफरत खत्म कीजिए. एक-दूसरे की बात सुनिए और आगे बढ़िए. विरोधियों को दुश्मन समझना बंद कीजिए, क्योंकि हम सब अमेरिकी हैं. बाइबल हमें सिखाती है कि हर चीज का एक वक्त होता है. अब जख्मों का भरने का वक्त है. सबसे पहले कोविड-19 को कंट्रोल करना होगा, फिर इकोनॉमी और देश को रास्ते पर लाना होगा.
– हर वर्ग का साथ मिला
बाइडेन ने अमेरिका की अनेकता में एकता का जिक्र किया. कहा- मुझे गर्व है कि हमने दुनिया के सबसे पुराने लोकतंत्र में विविधता देखी. उसके बल पर जीते. सबको साथ लाए. डेमोक्रेट्स, रिपब्लिकंस, निर्दलीय, प्रोग्रेसिव, रूढ़िवादी, युवा, बुजुर्ग, ग्रामीण, शहरी, समलैंगिक, ट्रांसजेंडर, लैटिन, श्वेत, अश्वेत और एशियन. हमें सभी का समर्थन मिला. कैम्पेन बहुत मुश्किल रहा. कई बार निचले स्तर पर भी गया. अफ्रीकी-अमेरिकी कम्युनिटी हमारे साथ खड़ी रही.
– सास से कहा था, एक दिन राष्ट्रपति बनूंगा
बाइडेन ने पहली शादी 1966 में की थी. वे 24 साल के थे. लड़की की मां ने पूछा कि काम क्या करते हो? बाइडेन ने जवाब दिया- एक दिन अमेरिका का राष्ट्रपति बनूंगा. बाइडेन 32 साल में तीसरे प्रयास में राष्ट्रपति का चुनाव जीते हैं.